• एक अप्रैल से 45 वर्ष के ऊपर सभी लोगों को लगेगा कोरोना का टीका
  • गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों को अब नहीं देनी होगी मेडिकल रिपोर्ट
    आरा, 02 अप्रैल | कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर जिले में टीकाकरण अभियान का चौथा चरण शुरू हो चुका है। जिसके तहत जिले में अब 45 वर्ष के ऊपर सभी लोगों को टीकाकरण किया जा रहा है। इस क्रम में टीकाकरण के लिए कुल 39 सत्र स्थलों का संचालन किया जा रहा है। ताकि, अधिक से अधिक लोगों को टीका दिया जा सके। स्वास्थ्य समिति से मिली जानकारी के अनुसार अभियान के पहले दिन 45 से 60 वर्ष तक के कुल 1502 लोगों को टीके का पहला डोज दिया गया। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी (डीआईओ) डॉ. संजय कुमार सिन्हा ने बताया जिले में चौथे चरण की शुरुआत हो चुकी है। लेकिन, तीसरे चरण के तहत 60 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थियों को भी टीका दिया जा रहा है। ताकि, कोई भी व्यक्ति टीका लेने के अधिकार से वंचित न रह जाए। उन्होंने जिलेवासियों से अपील की है कि लोग अधिक से अधिक संख्या में आगे आकर कोविड-19 का टीका लें व संक्रमण से खुद को सुरक्षित रखें।
    ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा उपलब्ध :
    डीआईओ डॉ. सिन्हा ने बताया जिनकी उम्र 45 वर्ष के ऊपर है कोई भी व्यक्ति अपने नजदीकी टीकाकरण केंद्रों पर टीकाकरण करवा सकता है। टीकाकरण करवाने वाले लाभार्थी अपना आधार कार्ड व मोबाइल नंबर अपने नजदीक टीकाकरण केंद्र पर जाकर ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन करवा कर, तुरंत टीका ले सकते हैं। उन्होंने बताया एक मोबाइल नंबर के आधार पर एक ही परिवार के चार लोगों का रजिस्ट्रेशन हो सकता है। इसके अलावा लाभार्थी कोविन पोर्टल और आरोग्य सेतु एप के माध्यम से भी अपना रजिस्ट्रेशन स्वयं कर सकते हैं। यदि परिवार में चार से अधिक लोग हैं, तो दूसरा मोबाइल नंबर इस्तेमाल करना होगा। दूसरी ओर, अधिक से अधिक लोग टीका से लाभान्वित हो इसके लिए जन जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। साथ ही साथ जनप्रतिनिधियों का भी सहारा लेकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है।
    कोरोना के खिलाफ सुरक्षा कवच है टीका :
    सिविल सर्जन डॉ. ललितेश्वर प्रसाद झा ने बताया पिछले एक साल पूर्व जो हालात थे, उन्हें देखकर आज भी मन व्यथित हो जाता है। जिले में संक्रमण का प्रसार चारों ओर था। जिसके कारण सभी लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। संक्रमण प्रसार के कारण स्कूल, कॉलेज, कार्यालय आदि सारे संस्थान या तो बन्द कर दिये गए थे या पूरी तरह से बाधित रहे। अब तो स्वदेशी वैक्सीन आ गयी , जो पूरी तरह से सुरक्षित है। देश के वैज्ञानिकों के द्वारा बनाया गया यह टीका, कोरोना के खिलाफ लोगों के लिए सुरक्षा कवच के रूप में काम करेगा। इसलिए यह जरूरी है कि लोग आगे आकर स्वयं टीका लें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *