• केवीके प्रमुख ने अपनी पत्नी के साथ लिया टीका
  • फसल कटनी के दौरान किसानों व मजदूरों को नियमों का पालन करना है जरूरी
    आरा, 06 अप्रैल | जिले में टीकाकरण अभियान को तेज करने के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य समिति ने पूरी ताकत झोंक दी है। जिले में कुल 21 सत्र स्थलों पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। जहां पर 45 वर्ष व उससे अधिक उम्र के लोगों को टीकाकृत किया जा रहा है। इसी क्रम में बीते दिनों कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके), भोजपुर के प्रमुख डॉ. पीके द्विवेदी ने अपनी पत्नी बिंदु कुमारी द्विवेदी के साथ कोरोना का टीका लिया। टीका लेने के बाद अब वह लोगों को टीका लेने के लिए जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने जिले के सभी कृषकों से अपने नजदीकी सत्र स्थल पर जाकर टीका लेने की अपील की है। उन्होंने बताया टीका लेने के बाद उन्हें किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई है। कोरोना वायरस व उसके संक्रमण से बचने के लिए सबसे कारगर हथियार स्वदेश में निर्मित यह टीका ही है जिसका कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है।
    किसानों के लिए सुरक्षा कवच का काम करेगा टीका :
    केवीके प्रमुख डॉ. द्विवेदी ने कहा जिले के अन्नदाता हमारे किसान भाई हैं। जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी उनके साथ हमारी भी है। कोरोना का टीका उनके लिए संक्रमण के खिलाफ सुरक्षा कवच का काम करेगा। यदि, कोई किसान कोरोना वायरस की चपेट में आ जाएगा, तब उसे इलाज के लिए आइसोलेट होना होगा। ऐसे में खेती-बाड़ी का काम भी प्रभावित होगा। जिससे उनकी फसलों की उपज भी कम होने की पूरी संभावना है। इसलिए किसानों को चाहिए कि वह बिना किसी के बहकावे में आकर सबसे पहले टीका लें। इससे वह खुद को सुरक्षित तो करेंगे ही, साथ ही अपने परिवार के सदस्यों को भी बाहरी संक्रमण से बचाएंगे।
    कटनी के दौरान किसान व मजदूर करें नियमों का पालन :
    डॉ. द्विवेदी ने बताया जिले में अभी फसल कटनी का काम शुरू हो चुका है। ऐसे में सभी किसानों के लिए कोविड-19 के लिए बनाए गए नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है। विभागीय दिशा-निर्देशों के मुताबिक फसल कटाई यथा संभव मशीन चलित उपकरणों से करें। हाथ से चलने वाले उपकरण काम में लेने पर उपकरणों को दिन में कम से कम तीन बार साबुन व पानी से हाथों को धोकर, कीटाणु रहित करें। इसके अलावा फसल कटाई के दौरान किसान व कटनी में लगे मजदूर सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) की सख्ती से पालन करें। खेत में फसल काटने एवं खाना खाते समय एक व्यक्ति से दूसरे के बीच कम से कम दो मीटर की दूरी रखें। खाने के बर्तन अलग-अलग रखें तथा प्रयोग के बाद साबुन के पानी से अच्छी तरह साफ करें।
    काम में लिए जाने वाले उपकरण अलग रखें :
    संक्रमण से बचने के लिए नियमों का पालन करना जरूरी है। इस दौरान सभी व्यक्ति अपनी अलग-अलग पानी की बोतल रखें और मुंह पर मास्क का प्रयोग करें। खेत में पर्याप्त मात्रा में पानी एवं साबुन की व्यवस्था रखें। फसल कटाई के दौरान एक व्यक्ति की ओर से काम में लिए जाने वाले उपकरणों को दूसरा व्यक्ति कतई काम में नहीं लें। कटाई करने वाले सभी व्यक्ति अपने-अपने उपकरण ही काम में लें। साथ ही, कटाई के दौरान बीच-बीच में अपने हाथों को साबुन के पानी से अच्छी तरह साफ करते रहें। उन्होंने बताया कि फसल कटाई कार्य अवधि में पहले दिन पहने कपड़े दूसरे दिन काम में न लें। काम में लिए कपड़ों को अच्छी तरह धोकर धूप में सुखाने के पश्चात ही पुनः काम में लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *