• डब्लूएचओ के अनुसार टीकाकृत होने के बाद भी संक्रमित होने की रहती है संभावना
  • संक्रमण के बाद आम लोगों की तुलना में टीकाकृत व्यक्ति जल्द होगा स्वस्थ

आरा, 07 अप्रैल | वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर से जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर है। लोगों को संक्रमण के प्रसार से बचने के लिए जागरूक तो किया ही जा रहा है, साथ ही जिले के विभिन्न सत्र स्थलों पर वैक्सीन देने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। गत दिनों प्रतिदिन कोरोना के नये स्ट्रेन से संक्रमितों की संख्या धीरे-धीरे ही सही लेकिन बढ़ ही रही है जो चिंता का विषय है। जिसे देखते हुए जिले में जारी टीकाकरण अभियान के चौथे चरण में अब 45 वर्ष के ऊपर के सभी लोगों को टीकाकृत किया जा रहा है। ताकि, संक्रमण के प्रभाव को कम किया जा सके। डब्लूएचओ ने यह स्पष्ट किया है कि वैक्सीन लेने के बाद भी लोगों में कोरोना का संक्रमण फिर हो सकता है। लेकिन, आम लोगों की तुलना में वैक्सीन लेने वाले लोग जल्द स्वस्थ हो जाएंगे। साथ ही, उनके द्वारा संक्रमण प्रसार की संभावना बहुत ही कम होगी।
मास्क व शारीरिक दूरी का करना होगा पालन :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी (डीआईओ) डॉ. संजय कुमार सिन्हा ने बताया अन्य जिलों से इस प्रकार की सूचना मिल रही है कि जिन लोगों ने टीका लिया है, वह दोबारा संक्रमित हुए हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि उन लोगों ने कोविड-19 के सामान्य नियम मास्क का प्रयोग और शारीरिक दूरी के नियमों का पालन नहीं किया। इसलिए लोगों को मास्क व शारीरिक दूरी के नियम का पालन करना होगा। वैक्सीन देते समय लोगों को यह बताया जाता है कि पहले डोज के 28 दिनों बाद दूसरा डोज पड़ेगा। उसके बाद भी उन्हें नियमों का पालन तब तक करना होगा, जब तक उनके शरीर मे एन्टी बॉडीज नहीं बन जाती। वैक्सीन की दोनों डोज लेने के दो से चार हफ़्तों में लोगों के शरीर में एंटी बॉडीज बनती है। जो उनके शारीरिक की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करती है। यदि एन्टी बॉडीज के पूरी तरह से विकसित होने के पहले टीकाकृत व्यक्ति किसी संक्रमित के संपर्क में आता है, तो उसके दोबारा बीमार पड़ने की संभावना 90 प्रतिशत तक रहती है।
संक्रमण के मामलों को देखते हुए बढ़ाई गई है सतर्कता :
डीआईओ डॉ. सिन्हा ने बताया कोविड-19 के बढ़ते मामलों ने चिन्ता बढ़ा दी है। ऐसे में बढ़ते संक्रमण की ताकत को तोड़ने के लिए उन्होंने पूरे जिलेवासियों से पूर्व की तरह फिर से गाइडलाइन का पालन कर संक्रमण को रोकने के लिए आगे आने और अपनी जिम्मेदारी निभाने की अपील की है । कोविड-19 संक्रमण के मामले बढ़ते देख स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता बढ़ा दी है। वहीं, कोविड-19 जांच एवं वैक्सीनेशन अभियान की गति तेज कर दी गई है। इसके अलावा जिस इलाके में संक्रमित मरीज मिले हैं, उस इलाके में कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। उन्होंने बताया संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए पूर्व से ही अलर्ट मोड में है और संक्रमण पर रोकथाम के लिए हर आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। किन्तु, संक्रमण पर रोकथाम तभी संभव है, जब सभी लोग संयम के साथ सावधान और सतर्क रहकर स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *