संक्रमण से बचने के लिए अनिवार्य है कोविड अनुकूल आचरण
प्रशासन द्वारा दिये निर्देशों पर दें ध्यान
आरा,26 अप्रैल।एक तरफ कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं,दूसरे तरफ शादी व्याह का दौर फिर से शुरू हो चुका है। ऐसे में ध्यान देना जरूरी है कि आनंद का ये माहौल कहीं संक्रमण का कारण न बन जाये।यदि समारोह में शामिल हर व्यक्ति जिम्मेदार और सतर्क रह कर कुछ बातों का ध्यान रखें तो संक्रमण फैलने के आसार भी कम होंगे और खुशियाँ भी दोगुनी हो जाएंगी।
इन बातों का ध्यान रखकर मास्क को बनाएँ ज्यादा कारगर :
अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ बोनोद कुमार ने बताया वैसे तो घर से बाहर हमेशा मास्क आवश्यक है किन्तु समारोहों में काफी लोग एकत्रित होते हैं इसलिए इनकी आवश्यकता के साथ गुणवत्ता पर भी ध्यान दें।अच्छी क्वालिटी के डबल लेयर मास्क, एन- 95 मॉस्क, थ्री प्लाई मास्क या तीन परत वाले सर्जिकल मास्क ही पहने।केवल एक मास्क न पहनकर 2 से 3 मास्क एक के ऊपर एक पहन कर निकलें। इससे संक्रमण की संभावना कम होगी। अंडाकार मास्क ही इस्तेमाल करें ताकि नाक और मुंह अच्छी तरह ढक सके।रीयुजेबल मास्क को छोड़ कर कोई भी मास्क केवल एक बार ही प्रयोग में लाएँ और उसे उतारकर इधर उधर ना फेंक कर कागज में लपेट कर डस्टबिन में डालें।
शारीरिक दूरी है सबसे जरूरी :
समारोहों में गर्मजोशी से एक दूसरे के गले लगना और हाथ मिलाना संक्रमण को बढ़ा सकता है। इसलिए एक दूसरे से लोगों से गले मिलने या हाथ मिलने से परहेज करें । इसके बदले हाथ जोड़ कर दूर से अभिवादन करें।बैठने की व्यवस्था में भी दूरी का ख्याल रखें।आम तौर में शादियों में ज्यादा लोगों का एक समूह में भोजन करना सामान्य है । लेकिन जितना संभव एक दूसरे से शारीरिक दूरी बनाए रखें।
भोजन से पहले सफाई का ध्यान :
संक्रमण से बचने के लिए बार बार हाथ को सैनिटाइज़ करें या साबुन पानी से जीवाणु मुक्त बनाएँ, विशेषकर खाने के पहले और बाद में अवश्य हाथ धोएँ । ध्यान रहे कि भोजन ढका हुआ हो और प्लेटें और चम्मच साफ हो। अपने साथ हमेशा बढ़िया क्वालिटी का सैनिटाइजर रखें। एक दूसरे का जूठा भोजन ना खाएं और दूर दूर रहकर भोजन करें।
डॉ. बिनोद ने आगे कहा शादी व्याह के माहौल में अपने साथ शामिल बुजुर्गों , नवजात , शिशुओं या गर्भवतियों पर विशेष ध्यान दें क्योंकि इन्हें सुरक्षा की जरूरत ज्यादा है। एक तरफ शादियों में होने वाली आतिशबाजी तो दूसरे तरफ अत्यधिक तेल- मसाले वाला भोजन, कुल मिलाकर ये सब चीजें इन लोगों कीसेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए संभव हो तो वर्तमान परिस्थिति को देखते हुये इन्हें ऐसे समारोहों से दूररखे।
समारोह को लेकरसरकारी आदेश का करें पालन :
डॉ. बिनोद ने बताया संक्रमण में कमी लाने के मद्देनजर प्रशासन ने भी समारोहों में लोगों के शामिल होने को लेकर दिशा निर्देश दिये हैं । इस निर्देश के अनुसार विवाह या श्राद्ध जैसे सामाजिक आयोजनों में लोगों के शामिल होने की संख्या को सीमित करके 100 कर दिया गया है। 100 से ज्यादा लोगों के शामिल होने पर प्रतिवान्ध लगाने का उद्देश्य संक्रमण को फैलने से रोक्ना है। इसलिए एक जिम्मेदार नागरिक होने का फर्ज़ निभाएँ। समारोहों में कोविड अनुरूप आचरण का पालन करें ,अपना टीकाकरण करवाएँ और कोरोना चक्र को तोड़ने में विभाग का सहयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *