आरा। कोरोना संक्रमण को रोकने और आमजन में जन-जागरूकता लाने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के द्वारा मिशन आरोग्य रक्षक अभियान की शुरुआत 1 जून से शुरू की गई। इस अभियान का उद्देश्य भोजपुर जिले अफवाहों पर नियंत्रण करना और लोगों को कोरोना से बचाव के लिए सही जानकारी देना था। इसको लेकर विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने सात दिनों तक जिले के 16 गांवों में जाकर अपनी सक्रिय भूमिका निभाई। इस दौरान प्रचार-प्रसार की विभिन्न गतिविधियों के साथ जनता तक यह संदेश पहुँचाया गया कि यदि मास्क नहीं पहनोगे या सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करोगे, तो कोरोना हो सकता है। मिशन आरोग्य रक्षक अभियान में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर सावधानियों का संदेश देना, वैक्सीनेशन के लिये प्रोत्साहित करने का कार्य किया गया। इस अभियान में लड़कों के साथ साथ लड़कियों ने भी कोरोना से देश को मुक्त कराने के लिए मैदान में उतर गई। बता दें कि वर्तमान समय में एक बार फिर पूरा देश कोरोना वैश्विक महामारी की चपेट में है। जिसकी वजह से आमजन में भयावह स्थिति बनी हुई है। कुछ लोग सहमे हुए हैं। कुछ लोग जानकारी के अभाव में लोगों के संपर्क में आ जाने से कोरोना बीमारी का शिकार हो रहे हैं।

लाखों लोग कोरोना की वजह से जिंदगी हार चुके हैं। तो लाखों लोगों ने कोरोना से जंग बीबी जीत लिया है। इसी भयंकर विकट परिस्थितियों में आरा की बेटियां में इस अभियान में शामिल हो गई। ये बेटियां शहर और गांव के घर-घर जाकर कोरोना संक्रमण होने से खुद को कैसे बचाये, इसके लिए सभी को जागरूक किया। गांव व शहर के लोगों को ये लड़कियां घूम-घूम कर विभिन्न तरह की सावधानियों के तरीके के बारे में बताई। इतना ही नहीं बल्कि सभी लोगों के बीच दवाइयों की कीट भी बांटी व सबका थर्मल स्केनिंग भी किया। इस दौरान बेटियों ने ना किसी की जात देखी, ना किसी का मजहब पूछा। इस भयंकर रोग से लोगों को बस बचाने निकल पड़ी। इस बेटियों ने अपनी जान की परवाह किये बिना इस अभियान में अपना योगदान दिया। अभियान में अमित सिंह, भुवन पांडेय, चंदन तिवारी, राहुल सिंह, आशुतोष सिंह, सौरभ पाठक, अनूप सिंह, अंजली तिवारी, अनामिका, मोनीका, रितू, अंजली सहित अन्य लोगों ने अहम भूमिका निभाई।

इसको लेकर अंजली तिवारी ने बताया कि अभियान के द्वारा हमलोगों ने 16 गावों के लोगों को जागरूक किया। इस दौरान हमलोगों ने लगभग 32000 लोगों से संपर्क किया। हमारी टीम ने अच्छा काम किया है। गांव में जाने के बाद लोगों से बात करके पता चला था कि लोगों को जानकारी के अभाव ने घेर रखा है। सही जानकारी नहीं होने की वजह से वह संक्रमण का शिकार हो रहे है। वहीं वैक्सीन को लेकर भी गांवों में अजीब अजीब सी अफवाह फैली हुई है। जिसकी वजह से गांव के लोग वैक्सीन नहीं ले रहे है। लेकिन इस अभियान के तहत लोगों को जागरूक करने के बाद गांव में कई लोगों ने वैक्सीन लेना सही समझा। उन्होंने बताया कि समाज के लोगों पर इस अभियान के माध्यम से एक अलग प्रभाव पड़ा है लोग जागरूक हुए हैं और वैक्सीन के अफवाहों से बाहर निकलकर वैक्सीन लेने लगे हैं। इस अभियान में समाज के अलग-अलग क्षेत्र से भी लोग बढ़ चढ़कर हिस्सा लिए है। जिसमें विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल, सेवा भारती, भारतीय जनता युवा मोर्चा एवं भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ता भी इस अभियान में लगे हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *