दनियावां। बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों के द्वारा तैयारी शुरू कर दी है वही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और गृह मंत्री अमित शाह के ऑनलाइन जनसंवाद और वर्चुअल मीटिंग की शुरुआत हो चुकी है। आज नालंदा के दनियावां में माले कार्यकर्ताओं के द्वारा भाजपा के इस वर्चुअल जन संवाद और मीटिंग का विरोध थाली और झाल बजा कर किये। कार्यकर्ताओं का कहना है कि आज कोरोना जैसे गंभीर महामारी से देश मे किसान और मजदूरों की हालत खराब है। वे खादान के अनाज, मनरेगा योजना में काम न मिलने से नाराज हैं। आज के वर्तमान समय मे वे भूखे मरने पर मजबूर है।

विरोध के दौरान माले नेताओं ने थाली, झाल पीटकर नारेबाजी करते हुए विरोध किया। माले नेता रामदास अकेला ने कहा कि आगामी दिनों में किसानों के बैंक लोन यानी कर्जमाफी के लिए जनान्दोलन को हिलसा अनुमंडल के छित्तर बीघा गाँव में विस्तृत रूप दिया जायेगा। उस दिन कॉमरेड विनोद मिश्रा के स्म्रतियों में जो कि माले के संस्थापक सचिव और बेजोड़ चिंतक थे। यह कार्यक्रम जुलाई के पहले सप्ताह में आयोजित होना प्रस्तावित है। उनको लाल सलाम भी पेश किया जाएगा।

नालंदा संवाददाता – डॉ राजीव नयन सिंह